पीपल के पत्‍ते का ऐसे करें प्रयोग, कई रोगों की है ये एक दवा

पीपल के पत्‍ते हवा को ही शुद्ध नहीं रखते बल्कि ये सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद हैं । आगे जानिए पीपल के पत्‍ते के अचूक प्रयोग और ये किन बीमारियों को दूर करता है ।

New Delhi, Aug 02 : आयुर्वेदिक गुणों वाले पीपल को हमारे देश में पूजा जाता है । शायद इसलिए भी क्‍योंकि ये पेड़ हमें 24 घंटे ऑक्‍सीजन देता है और प्रकृति में प्राणवायु का संतुलन बनाए रखता है । इस पत्‍ते का प्रयोग कई दवाओं को बनाने में होता है । किस प्रकार पीपल का ये पत्‍ता कई रोगों को दूर कर सकता है ये हम आज आपको बताने वाले हैं । आगे जानें उन 5 बीमारियों के बारे में जिनके इलाज में इसका इस्‍तेमाल किया जा सकता है । इसके अलावा दिल को कई प्रकार के रोगों से बचाने के लिए भी पीपल का पत्ते फायदेमंद होते हैं।

Advertisement

दिल का रोग
जी नहीं हम आपके वो वाले दिल के रोग की बात नहीं कर रहे हैं । दिल का रोग यानी हृदय रोग, आयुर्वेद में पीपल के पत्‍ते का इस्‍तेमाल हार्ट से जुड़ी बीमारियों को ठीक करने में किया जाता है । इसके लिए जो उपाय बताया गया है वो कुछ इस प्रकार है – पीपल की 15 ताजी हरी पत्तियां लेकर इन्‍हें एक गिलास साफ पानी में अच्छी तरह से उबाल लें । इस पानी को तब तक उबालना है जब तक वो एक तिहाई ना हो जाए । अब इसे ठंडा करके छान लें, इस काढ़े की तीन खुराक बना लें । सुबह जब उठें तब से लेकर हर तीन घंटे में इस काढ़े की खुराक लें । इस उपाय को अपनाकर आप दिल के रोगों की आशंका से मुक्ति पा सकते हैं ।

Advertisement

दांतों की समस्‍या
पुराने समय में पेड़ों की टहनियों दातून बनाई जाती थी । रोज सुबह सभी लोग इस दातून को दांतो तले दाबाकर अपने दांत साफ करते थे । पीपल के तने से बनी दातून दांतों को मजबूत करती है और उन्‍हें सफेद बनाए रखती है । पीपल की दातून का इस्‍तेमाल दांतों में दर्द होने पर भी किया जा सकता है ।

अस्‍थमा में असरदार
दमा के रोगियों के लिए पीपल के तने की छाल के अंदर के हिस्‍से को सुखाकर चूरन तैयार किया जाता है । इस चूरन का नियमित रूप से एक समय सेवन करने से दमा के रोग में राहत मिलती है । इस चूरन को पानी के साथ लेना होता है ।

खांसी – जुकाम
आप सोच रहे होंगे खांसी, जुकाम कब से गंभीर बीमारी हो गईं । अपना भ्रम दूर कीजिए, हर बड़ी बीमारी की शुरुआत खांसी, जुकाम से ही शुरू होती है । शरीर पर वायरल इनफेक्‍शन के चलते हमारी इम्‍यूलनटी वीक होती है और हम बीमार पड़ जाते हैं । इस बीमारी को दूर रखने के लिण्‍ पीपल के 5 पत्‍ते लेकर उन्‍हें दूध के साथ अच्छी तरह उबाल लें । अब इस काढ़े में एक चम्‍मच चीनी डालकर सुबह-शाम पिएं। आराम जरूर मिलेगा।

जॉन्डिस या पीलिया
किसी को पीलिया हो जाए तो उसके भोजन में अनाज को सबसे पहले बंद किया जाता है । पीपल के पत्‍ते का रस मिश्री डालकर पीने से पीलिया जल्‍दी दूर भागता है और रोगी जल्‍दी स्‍वस्‍थ हो जाता है ।
(नोट : इस आर्टिकल में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूरी तरह सत्‍य और सटीक हैं, इन्‍हें आजमाने और अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।)