सदी के सबसे लंबे चंद्रग्रहण के बारे में ये 5 बातें जाननी बहुत जरूरी हैं

27 जुलाई की पूरी रात मंगल ग्रह भी देखा जा सकेगा । उपकरणों के साथ तो इसकी खूबसूरती को आप और करीब से महसूस कर पाएंगे ।

New Delhi, Jul 27 : सदी को सबसे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण आज रात को होगा । इस ग्रहण को लेकर वैज्ञानिक ही नहीं ज्‍योतिष के जानकार भी उत्‍सुक है । जानकारी के अनुसार यह चंद्रग्रहण करीब एक घंटा 43 मिनट तक रहेगा । इस दौरान चांद का रंग सुर्ख लाल हो जाएगा । ग्रहण के दौरान चांद के रंग में आए इस बदलाव की वजह से ही इसे ब्‍लड मून (blood moon) कहा जाता है । ये ग्रहण पूरे भारत में दिखाई देगा और इसे आसानी से देखा जा सकेगा । दुनिया भर के लोग इस खगोलीय घटना पर नजर गड़ाए बैठे हैं । इस ग्रहण के बारे में आगे जानें कुछ रोचक बातें ।

Advertisement

अपनी रौशनी से अधिक चमकीला दिखेगा चांद
अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के अनुसार इस पूर्ण चंद्रग्रहण को दक्षिण अफ्रीका, यूरोप, अफ्रीका, एशिया और ऑस्‍ट्रेलिया में देखा जा सकेगा । पूर्ण चंद्रग्र‍हण के दौरान चांद अपनी रौशनी से अधिक चमकीला दिखाई देगा । चंद्रग्रहण का पूरा घटनाक्रम करीब चार घंटे तक चलेगा । लेकिन पूर्ण चंद्रग्रहण सिर्फ एक घंटा 43 मिनट तक ही सीमित होगा । सुबह 5 बजे के बाद ये पूरी तरह खत्‍म हो जाएंगा ।

Advertisement

मंगल भी होगा पृथ्‍वी के बेहद नजदीक
इस चंद्र ग्रहण के दौरान मंगल ग्रह भी साफ नजर आएगा । जानकारों के अनुसार 27 जुलाई को ही भारतीय समयानुसार सुबह 10:30 बजे मंगल ग्रह भी पृथ्‍वी के बेहद करीब आ जाएगा । इससे पृथ्‍वी से इसे देखना संभव होगा । 27 जुलाई की पूरी रात मंगल ग्रह भी देखा जा सकेगा । उपकरणों के साथ तो इसकी खूबसूरती को आप और करीब से महसूस कर पाएंगे । यह लाल गृह 31 जुलाई को पृथ्‍वी के सबसे करीब होगी, करीब 57.61 लाख किमी की दूरी पर होगा ।

चंद्रमा हो जाएगा सुर्ख लाल
ग्रहण के दौरान चंद्रमा लाल रंग हो जाता है और इसके पीछे कारण है कि जब सूरज और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आती है तो सूर्य की किरणें रुक जाती हैं ।  इसके बाद सूर्य की जो भी किरणें चांद पर पहुंचती हैं वे हमारी पृथ्‍वी के छोर से टकराकर वहां तक पहुंचती हैं । अधिकांश रंगों की रौशनी की वेव लेंथ कम होती है जैसे ब्‍लू, वायलट और हरे रंग की रौशनी । इन रंगों की रौशनी बिखर जाती है जबकि इस दौरान सिर्फ अधिक वेवलेंथ वाली रौशनी जैसे लाल, नारंगी और पीली ही वहां पहुंच पाती है । इसी वजह से चांद सुर्ख लाल नजर आता है ।

ये रहेगा ग्रहण का समय
भारतीय समयानुसार, देश में चंद्र ग्रहण देर रात 11 बजकर 54 मिनट पर शुरू होगा । देर रात 1 बजकर 51 मिनट पर चंद्र ग्रहण अपने सर्वोच्च स्तर पर होगा, ये ही पूर्ण चंद्रग्र हण होगा । धीरे-धीरे ग्रहण का असर कम होगा । शानिवार सुबह 4 से 5 बजे के आसपास इसका असर खत्म होगा । भारतीय ज्‍योतिष के अनुसार ग्रहण का असर अगले 108 दिनों तक रहता है ।

सदी का सबसे बड़ा चंद्रहण
27 जुलाई को पड़ने जा रहे चंद्र ग्रहण को इस सदी का सबसे बड़ा ग्रहण माना जा रहा है । ये करीब 1 घंटा 50 मिनट का होगा । ये 2018 का दूसरा चंद्र ग्रहण होगा । इससे पहले 31 जनवरी को चंद्र ग्रहण पड़ा था । ब्‍लू मून कहलाए गए इस ग्रहण को काल एक घंटा 16 मिनट तक था । तब इस ग्रहण को एशिया, ऑस्‍ट्रेलिया, प्रशांत क्षेत्र और उत्‍तर अमेरिका में देखा गया था ।